Home उत्तराखंड BREAKING NEWS…शरदोत्सव सम्पन्न: बाजे-गाजे के साथ मैया को विदा किया.

BREAKING NEWS…शरदोत्सव सम्पन्न: बाजे-गाजे के साथ मैया को विदा किया.

31
0
SHARE

देहरादून/उत्तराखण्डः राजधानी में 8 अक्टुबर मंगलवार को प्रदेश में माॅ दुर्गा को विधि विधान व धूमधाम के साथ विदाई कि जिसमें आपको बता   दें कि   शरद   नवरात्रि में  4 अक्टु0 2019 षष्‍ठी से लेकर 8 अक्टु0 दशमी तक दुर्गा उत्‍सव हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया। वही हिन्‍दू पंचांग के अनुसार आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की षष्‍ठी से लेकर विजयदशमी तक शरदोत्सव को मनाया जाता है।

वही जिसमें इस दुर्गा पूजा में अगर धुनुची डांस न हो ऐसा हो ही नहीं सकता। इसके बिना पूजा में अधूरी होती है। जिसमंे एक खास तरह के पीतल, लोहे से बना धूनी वाला बर्तन को धुनुची कहा जाता है। जिसमें इस बर्तन में सूखे नारियल के छिलकों को जलाकर दुर्गा मां की आरती की जाती है।

वही इस दुर्गा पण्डाल में आरती के दौरान धुनुची के साथ भक्‍त झूमकर नाचते हैं। वही इस दुर्गा पूजा के दौरान नवरात्र भर मैया का गुणगान किया गया। जिसमें आपको बता दें कि महिषासुर नाम के राक्षस का वध माॅ दुर्गा ने किया था, बुराई पर अच्‍छाई के प्रतीक के रूप में नवदुर्गा की पूजा की जाती है। इस शरदोत्सव के पंडालों में मां दुर्गा, सरस्‍वती, लक्ष्‍मी, कार्तिक, भगवान गणेश और महिषासुर की प्रतिमाओं को स्‍थापित कर 5 दिनों तक पूजा कि जाती है।

आज 8 अक्टु0 देहरादून के राजधानी में करनपुर बाजार स्थित लक्ष्मी नरायाण मंदिर के पण्डाल में बजरंग सेवा समिति द्वारा आयोजिस इस वर्ष 29वीं शरदोत्सव धूमधाम के साथ मनाया गया। जिसमें पूजा समिति के पूर्व अध्यक्ष व मिडिया प्रभारी सोमपाल सिंह ने बताया कि आज 8 अक्टु0 मंगलवार विजयदश्मी के दिन पं0 शास्त्री गिरिशचंद सेमवाल व पं0 गणेश सेमवाल द्वारा प्रातः 5.00बजे माॅ दुर्गा व श्री गणेश, मां सरस्‍वती, लक्ष्‍मी, कार्तिक, भगवान की विधि विधान एवं मंत्रोच्चाणों के साथ परंपारिक वैदिक विधि के अनुसार विसर्जन पूजा कि गई जिसमें माॅ दुर्गा से मंगल कामना करने के बाद महिलाओं ने एक दूसरे के साथ सिंदूर खेला गया।

इसके साथ मिडिया प्रभारी ने बताया कि प्रातः 10.30बजे करनपुर बाजार लक्ष्मी नारायाण मंदिर से शोभायात्र/के साथ विसर्जन यात्रा निकाली गई। जिसमें बजरंग सेवा समिति के अध्यक्ष रविकुमार गोलू के नेतृत्व में यह शोभायात्रा निकाली गई मैया को विदा किया गया।

जिसमें बैंड-बाजे. ढोल बजाते हुए पूरे रास्ते समिति की महिलाआंे व सैकड़ो श्रद्धालु शामिल होकर मैया के जयकारे गूंजते रहे। और साथ देवी गीतों की धुन पर श्रद्धालु मदमस्त होकर झूमते.नाचते विसर्जन यात्रा में चल रहे थे। देवी मां की भक्ति में लीन हो भक्त मां के रंग में रंगे हुए थे।

वही जिसमें इस शोभायात्र में महिलाओं की तादात पुरुषों की अपेक्षा काफी अधिक दिख रही थी। वही श्रद्धालु में भक्ति का खुमार ऐसा कि महिलाएं नंगे पांव, मैया के जयकारे लगाते और नाचते.गाते आगे बढ़ रही थी। साथ समिति के पद अधिकारियों व सदस्यों के द्वारा रास्ते भर रंग.गुलाल उड़ाए जा रहे थे।

इस दौरान लोग नाचते.गाते हुए बजरंग सेवा समिति के पदआधिकारी गण जिसमें अध्यक्ष रविकुमार गोलू, महासचिव सुंमित अरोड़ा, सौरभ, जितेंद्र सहानी, चेतन दिवान, चिराग शर्मा, आदि संजीव सहानी, अभिषेक वोहरा, सुमित अरोड़ा, प्रवीन चावला, जतिन अरोड़ा, शुभमं जोशी, विशाल वासुदेव, एवं मंदिर समिति के अध्यक्ष बंसीलाल, सुभाष वासुदेव, सुरेश दुसेजा, पार्षद श्रीमति प्रमिला कोहली सरदार मंजीत सिंह, आदि सदस्य सहित सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद थे।।

वही देहरादून के माल देवता की नदी में पं0 शास्त्री गिरिशचंद सेमवाल द्वारा दश्मी को सांय 4.00बजे वैदिक मंत्रोच्चारण व विधि विधान के साथ बजरंग सेवा समिति के सभी सदस्यों ने मां की प्रतिमा साहित गणेश भगवान, माॅ सरस्वती, लक्ष्मी माता, कार्तिके भगवान सहित प्रतिमाओं को नदी के बहते जल में विसर्जन किया। वही इसी के बाद मिडियां प्रभारी ने सभी श्रद्वालुओं को पूजा में सहयोग व विजयदशमी की हार्दिक बधाई और रात्री 8.00बजे करनपुर के लक्ष्मी नरायाण मंदिर में विजय मिलन कार्यक्रम किया।

LEAVE A REPLY