Home उत्तराखंड EXCLUSIVE NEWS…कालरात्री बलिदान पूजाः महीषासुर रूप में अष्ठ प्रकार की सात्विक...

EXCLUSIVE NEWS…कालरात्री बलिदान पूजाः महीषासुर रूप में अष्ठ प्रकार की सात्विक बलि : पं0 गिरिशचंद

26
0
SHARE

देहरादून/उत्तराखण्डः राजधानी में आज 6 अक्टुबर रविवार को दून के करनपुर बाजार में स्थित लक्ष्मी नारायण मंदिर के दुर्गा पण्डाल में बजरंग सेवा समिति द्वारा आयोजित 29 दुर्गा पूजा महोत्सव में आज महाष्टमी को 6 अक्टूबर को पं0 शास्त्री गिरिशचंद सेमवाल द्वारा प्रातः 8.30 बजे महाअष्टमी पूजन किया गया। वही जिसमें इसके बाद 10.45 पर पुष्पांजलि कार्यक्रम पूजा की गई और इसके बाद इसके बाद हवन एवं कान्याओं का पूजन किया गया ।

जिसमें बजरंग सेवा समिति के सभी पदाधिकारी व सैकड़ों संख्या में श्रद्धालु उपस्थित रहे। वही राविवार को इसी के साथ आज शाम को 7.00 बजे माॅ दुर्गा की पूजा अर्चना व पुष्पांजलि,आरती कि गई । जिसमें पूर्व अध्यक्ष सोमपाल सिंह ने बताया कि आज देर रात्रि 12.00बजे कालरात्रि बलिदान पूजा की जाएगी ।

वही कालरात्री , बलिदान पूजा के संबंध में पं0 गिरिशचंद सेमवाल ने बताया कि इस कालरात्री पूजा में पेठे के फल का एवं मावे आदि सहित यह आठ प्रकार की अष्ठ बलि होती हैं। जिसमें गन्ने,मूली, सिंघाड़े, नारियाल, श्रीफल, मावा, पेठे सहित बलिदान पूजा की जाती है। पं0 सेमवाल ने कहा की इस बलिदान पूजा में महाष्ट बलिया दी जाती है जो कि हमारे सनातम धर्म पदती के अन्तगत वैष्णव पूजा के माध्यम से सात्विक बलि की जाती है। उन्होनंे के बताया कि वैदिक मंत्रोच्चाण , विधि विधान से यह कालरात्री पूजा की जाती है।

पं0 सेमवाल ने कहा की इससे करने से समस्त कष्ट एवं देश की सुख शांति के लिए गौ कन्या की रक्षा के लिए एवं प्रदूषण मुक्त के लिए पेठे बली महीषासुर के रूप में व शुभं निशुंभ के रूप में की जाती है। तथा मावा की बली चंड मुंड के रूप में मावे की बलि दी जाती है। कल 7 अक्टुबर सोमवार को महानवमी पूजन प्रातः 8.05बजे उसके बाद 11.30बजे पुष्पांजलि पूजा के बाद हवन और 108 कन्याओं का पूजन किया जाएगा ।

वही पूर्व अध्यक्ष सोमपाल सिंह ने बताया कि सोमवार 7 अक्टु0 को लक्षमी नरायाण मंदिर पण्डाल में विशाल विशाल भंडारे का आयोजन भंडारे का आयोजन दुर्गा पूजा पंडाल में आयोजित होगा जिसमें सैकड़ों श्रद्धालु वह प्रसाद का लाभ उठाएंगे। इस अवसर पर पूजन व हवन में समिति के सभी पदाधिकारी व सैकड़ों श्रद्धालुओं ने इस पूजा का लाभ उठाया। जिसमें समिति के अध्यक्ष रविकुमार गोलू, महामंत्री सौरभ, मंयक, कोषाध्यक्ष चेतनी दिवान, संजीव सहानी, अभिषेक वोहरास, सुमित अरोड़ा, प्रवीन चावला, जितंेद्र सहानी, जतिन अरोड़ा, शुभमं जोशी, चिराग शर्मा, विशाल वासुदेव, एवं मंदिर समिति के अध्यक्ष बंसीलाल, सुभाष वासुदेव, सुरेश दुसेजा, सरदार मंजीत सिंह, आदि समिति के सभी पद आधिकारीगण व सदस्य सहित सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद थे।

LEAVE A REPLY