Home उत्तराखंड BREAKING NEWS…मौत की नींद सुलाने वालो के खिलाफ अब फिर वही जांच...

BREAKING NEWS…मौत की नींद सुलाने वालो के खिलाफ अब फिर वही जांच का विषय..

32
0
SHARE

देहरादून/उत्तराखण्डः आज 21 सितंबर शनिवार को दून के बिंदाल नदी रोड स्थित से लगे नैशविला रोड से लगा पथरिया क्षेत्र में 20 सितंबर को अवैध रूप से बिक रही शराब पीने से एक सेवानिवृत्त फौजी समेत करीब 6 लोगों की मौत हो गई। जिसमें जहरीली शराब पीने वालों में से और तीन लोगों की हालात अब भी नाजूक बनी हुई है। जिसमें इस घटना को लेकर देहरादून शहर के क्षेत्रान्तर्गत पथरियापीर से लगे नेशविला रोड दून में शराब सेवन से हुई कुछ लोगों की मृत्यु पर सीएम त्रिवेंद्र रावत के तुरन्त ओदश पर मजिस्ट्रीयल जांच हेतु जिलाधिकारी सी रविशंकर द्वारा उप जिलाधिकारी सदर को जांच अधिकारी नामित किया गया है।

वही इसी पर उप जिलाधिकारी सदर ने उक्त घटना के सम्बन्ध में जिस किसी व्यक्ति को कुछ जानकारी हो और जानकारी उपलब्ध कराना चाहता हो। वह विज्ञप्ति प्रकाशन के एक सप्ताह के भीतर कार्यालय उप जिलाधिकारी सदर-न्यायालय में किसी भी कार्य दिवस में उपस्थित होकर अपना साक्ष्य-पक्ष लिखित अथवा मौखिक रूप से प्रस्तुत कर सकता है। वहीं इस घटना में 6 लोगों की मौत के बाद तीन लोगों की हालात अब भी गंभीर बनी हुई है।

इस तरह मौत की नींद सुलाने वालो के खिलाफ क्षेत्र के लोगों का गुस्सा फूट पड़ा जिसमें कई लोगों की पुलिस व पहुंची अधिकारियों के साथ हाथापाई व झड़पे भी हुई। लोगों ने अरोप लगाया है कि क्षेत्र में आने वाली धारा चैकी पुलिस व शहर कोतवाली पुलिस एवं आबकारी निरिक्षक की मिली भगत से इस इलाके में अवैध धंधे को बढ़ावा मिल रहा है। जिसमें उन्होंने शराब बेचने वालों के घरों पर जमकर हंगामा किया।

वही इस घटना के 24 घण्टे में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून अरूण मोहन जोशी के द्वारा निरीक्षक शिशुपाल सिंह नेगी, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली नगर पल्टन बाजार एवं उप निरीक्षक कुलवंत सिंह, धारा चौकी प्रभारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। वही आपको बता दें कि रूड़की क्षेत्र के भगवानपुर तहसील क्षेत्र के विगत छः महीने पहले आधा दर्जन गांवों में अवैध शराब कांड में करीब 44 लोगों की मौत हुई थी। जिसका मुख्य कारण पुलिस और आबकारी विभाग के बीच समुचित तालमेल का अभाव व नियमित चेकिंग नहीं होना पाया गया है।

जिसमंे पीछले माह कि 8 फरवरी 2019 को भगवानपुर के झबरेड़ा थाना क्षेत्र के बाल्लुपुर समेत कई गांवों और सहारनपुर में जहरीली शराब पीने से 100 से अधिक लोगों की मौत हुई थी। इसमें 44 अकेले हरिद्वारजनपद के थे। वही इस पर जहरीली शराब कांड में हरिद्वार के तत्कालीन डीएम दीपक रावत ने मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश दिए थे। इस जांच के बाद क्या कार्यवाही हुई और अभी स्थिति स्पष्ट नही हैं ।

और ये अब राजधानी दून एक ओर र्ददनाक घटना इसी तरह घट गयी अब इसकी भी जांच के विषय में डाल दिया। रही बात दोषीयों कि वहभी कुछ दिनों बाद सरकार उन्हें बहाल कर दूसरे जिलों मंे स्थानातंरण कर देगी। और लोग इस भी धीरे-धीरे भूला देंगे। जिनके घर के चुल्हे बुझ गये उनकी ओर सरकार मुड़ कर भी नही देखने वाली सरकार को अपने कर्मचारियों को बचाना आता है। जब वोट मंागने की बात आयेगी तो इन्ही बस्तीयों में जाकर हाथ पैर पकड़ेगी। और बड़े-बड़े प्रलोब देकर अपना उल्लू सीधा करके कुर्सी हासिल कर लेगे।

LEAVE A REPLY